मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट जनकपुर ने सुनाया फैसला

अविनाश चंद्र की खबर

कोरिया(जनकपुर) आपको बता दें कि यह मामला 20 सितंबर 2020 को जनकपुर के एक मंदिर की घटना है जहां पर आरोपी जय सिंह गोंड के द्वारा लोहे के घर से चंदीला माता रानी के मंदिर में मूर्ति को तोड़कर खंडित किया गया था जिसको लेकर प्रार्थी विजय बहादुर सिंह ने थाना जनकपुर में सूचना दर्ज कराई थी जिसकी विवेचना एएसआई अजय बघेल के द्वारा किया गया जिसमें आरोपी को धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने की धाराओं के तहत न्यायिक रिमांड पर भेजा गया था उक्त मामले की सुनवाई करते हुए मुख्य न्यायधीश मजिस्ट्रेट जनकपुर ने 26 मार्च 21 को आरोपी के ऊपर दस हजार का लगाते हुए जमा करने के आदेश दिए गए इस प्रकार से कहां जा सकता है कोरिया जिला के दूरस्थ ग्रामीण क्षेत्र जनकपुर थाना के एएसआई अजय बघेल की सूक्ष्मदर्शी का और विवेचना को प्रमुखता देते हुए धार्मिक भावनाओं को ठेस पहुंचाने के आरोपी को जहां एक तरफ जेल की सजा मिली वहीं दूसरी तरफ मुख्य न्यायिक मजिस्ट्रेट जनकपुर के द्वारा दस हजार रूपए का जुर्माना लगाया गया है.

blitz hindiके साथ जुड़े हर समाचार सबसे पहले और सटीक पाने के लिए | विज्ञापन के लिए संपर्क करेअविनाश चंद्र -8964006304 / 83195220243/रफीक अंसारी पटना कोरिया:-9770277040

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here