धीरज कुमार मौर्य की रिपोर्ट

बैकुण्ठपुर : छग शासन के पूर्व संसदीय सचिव एवं भरतपुर सोनहत क्षेत्र के पूर्व विधायक श्रीमति चम्पादेवी पावले जी हाल ही में मनेन्द्रगढ,भरतपुर,सोनहत विकासखण्ड के विभिन्न क्षेत्रों में दौरा किये थे।हलांकि दौरे का कारण श्रीराम मंदिर समर्पण अभियान अन्तर्गत 15 जनवरी से संपन्न होने वाले विभिन्न कार्यक्रमों की रूपरेखा बनाना व अवाश्यक तैयारी करना साथ ही प्रदेश भाजपा के निर्देशानुसार प्रदेश सरकार की नाकामी,धान खरीदी में दर्जनों समस्याओं के खिलाफ जैसे-किसानों को परेशान करने के लिये रकबा की कमी करना,रणनीति के तहत बारदाना कम करना जिसके कारण छत्तीसगढ के भोलेभाले किसान धान बिक्री न कर सके,जिससे भुपेश सरकार को किसानों को 2500रूपये धान की राशि देने से बच सके,पिछले वर्ष के धान बिक्री का भुगतान न मिलना जैसे अनेक कमियों के विरूद्ध ,दो दिन 13जनवरी व 22फरवरी को एक – एक दिवसीय क्रमशः विधानसभावार व जिला स्तरीय में विशाल धरना प्रदर्शन व हडताल कर किसान विरोधी सरकार पर लगाम कसने के लिये अवाश्यक तैयारियां के संदर्भ में भरतपुर-सोनहत विधानसभा अन्तर्गत सभी विकासखण्ड के सभी प्रमुख स्थानों में श्रीमति पावले पहुंची थी।परंतु झूठे वादों के सहारे से 15साल में सरकार में पहुंची कांग्रेस से तंग आ चुके किसान,मजदूर,कर्मचारी वर्ग अपने पूर्व विधायक को पा फूले नही समाये। तो वहीं,विभिन्न समस्याओं से ग्रसित क्षेत्रवासी अपने नेता को समस्याओं से छुटकारा पाने के लिये प्रयास करने की बात कही,क्षेत्र के समस्याओं से दुखी हो पूर्व संसदीय सचिव श्रीमति चम्पादेवी पावले ने क्षेत्रवासियों का आश्वस्त किया,कि वह तत्काल जिले के मुखिया,संवेदनशील कलेक्टर कोरिया श्री एस एन राठौर से मिल क्षेत्रवासियों के सभी समस्याओं के त्वरित निदान के लिए कलेक्टर कार्यालय में पहुंच समाधान करवाने हरसंभव प्रयास करेंगी।जिस अनुसार रविवार बीतते ही सोमवार को पूर्व संसदीय सचिव श्रीमति चम्पादेवी पावले कलेक्टर मुख्यालय पहुंचीं,जहां कलेक्टर कोरिया श्री एस एन राठौर से मिल समय रहते जलाशयों से नहरों में पानी न छोडे जाने,कृषि विभाग द्वारा लघु किसानों को गेहूं बीज व खाद समय रहते न प्रदान किये जाने,पैसा जमा करने के बावजूद किसानों को सोलर पम्प नही लगाये जाने जैसे अनेकों शिकायत लेकर पहुंची,जिसे कलेक्टर कोरिया ने त्वरित निदान के लिये आश्वासन दिये।इस दौरान जिला सह संयोजक बेटी बचाओ-बेटी पढाओ अभियान श्री अंचल राजवाडे जी भी साथ रहे।
उल्लेखनीय है कि,मुडधोवा व्यपवर्तन में भी नहर में निर्माणाधीन पुल में सिर्फ गड्ढा खोदाकर छोड दिया गया है।तो वहीं जंगल से बडे भुसभुसी पत्थर मानक अनुरूप से परे, इकट्ठा किया गया जिससे स्पष्ट है कि नीचे यही बोल्डर उपयोग करेंगे।उक्त विभाग के उदासीन रवैय्या के कारण सैकडों किसानों के गेहूं बुआई पर सीधा असर पडा है।

blitz hindi
के साथ जुड़े हर समाचार सबसे पहले और सटीक पाने के लिए | विज्ञापन के लिए संपर्क करे
अविनाश चंद्र -8964006304 / 83195220243/रफीक अंसारी पटना कोरिया:-9770277040

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here