अविनाश चंद्र की खबर

बैकुण्ठपुर : छग प्रदेश के निगम,मण्डलों की सूची जारी होने पर भाजयुमो युवा नेता हरिओम पाण्डेय ने कांग्रेसियों को सहानुभूति की बात कहते हुये बडी बयान दिये हैं।उन्होनें कहा है कि,बडी बडी डींगे हाकने वाले,सोशल मीडिया में अपनी झूठी पकड दिखा श्रेय लेने वाले कांग्रेस के मित्रों व नेताओं को उनकी अपनी संगठन ने ही आईना दिखा दी है। “थोथा चना- बाजे घना” इन्हीं मित्रों के असलियत पर सटीक लगता है।भाजयुमो युवा नेता श्री पाण्डेय ने चुटकी लेते हुये कहा कि कांग्रेस के मित्रगण असमंजस में फंसे हैं,आखिर क्या बोलें?किसे बोलें?अपनी फरियाद किसे सुनायें?खैर लगभग दो साल की सत्ता सुख लेने के बाद ,असली पकड का भान अब आभास तो हुआ।मेहनतकश नेताओं 15 साल चुप्पी साधने के बाद, दिनरात सोशल मीडिया में सक्रिय रहकर रतजगा करते हैं।ऐसे प्रखर वक्ताओं का उनके अपनी संगठन ने छलने का काम किया है।जो सहानुभूति के पात्र हैं। माननीय सांसद महोदय सम्मानीय महराज ज्योतिरादित्य सिंधिया ने सही कहा है कि कांग्रेस में योग्य-काबिल व्यक्तियों की कोई जगह नही है। युवा नेता ने आगाह किया है कि,कांग्रेस संगठन के ऐसे कार्यशैली को कांग्रेस के मित्रों द्वारा भांपने की आवश्यकता है। उन्होंने अपनी बात रखते हुए आगे कहा कि लोगों ने सोचा था कि,रोका-छेका योजना से गांव में फसल बर्बाद ना हो ऐसे उद्देश्य से प्रदेश सरकार ने पशुओं को रोकने-छेकने के लिए योजना बनाई गई होगी परंतु यह पूरी तरह गांव में फेल हो चुकी है।इस योजना की ढोल बस सुहावन है। लेकिन जिस तरह मध्यप्रदेश और राजस्थान में कांग्रेस के विधायकों में असंतोष पैदा हो रहा है,उससे सबक सीखते हुए छत्तीसगढ़ प्रदेश में 13 मंत्रीमण्डल सदस्यीय टीम पर 15 संसदीय सचिव बनाए गए हैं। और एक दिन बाद ही निगम-मंडल की नियुक्तियां की गई है।जिसमें कोरिया के कांग्रेसियों की एक भी नाम शामिल नही है,जिससे असल वजनदारी का एहसास हुआ है। रोका छेका योजना को परिभाषित करते हुये श्री पाण्डेय ने कहा है- कि-रोका-छेका गाँव के लिए नहीं अपितु कांग्रेस के विधायकों को रोकने छेकने की योजना है।इससे गौठान की तर्ज पर ही कांग्रेसी मित्र अप्रत्यक्ष रूप से लाभ अर्जित करेंगे और प्रदेश सरकार के गुणगान करेंगें।

blitz hindi
के साथ जुड़े हर समाचार सबसे पहले और सटीक पाने के लिए | विज्ञापन के लिए संपर्क करे
अविनाश चंद्र -8964006304 / 83195220243/रफीक अंसारी पटना कोरिया:-9770277040

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here