अजीम अंसारी की रिपोर्ट

कोरिया(बैकुंठपुर) नवनिर्वाचित ग्राम पंचायत पतरापाली बनाया गया है, यहां पंचायत भवन निर्माण के लिए भूमि का प्रॉब्लम बना हुआ है उचित स्थान जो अधिकारियों को पसंद हो एवं सरपंच पंच ग्राम वासियों को भी पसंद आना चाहिए।पतरापाली पंचायत भवन निर्माण की स्वीकृति 2000000 की हुई है ग्रामीणों का कहना है की ग्राम पंचायत की आबादी के बीचो बीच या भवन निर्माण होना चाहिए, वहीं शासन का कहना है कि सामुदायिक भवन के बगल में जहां ग्रामवासी पंचायत भवन बनाना चाहते हैं वहां गड्ढा काफी है जिला के अधिकारियों का कहना है की 20 लाख की स्वीकृति हुई है, गड्ढे में पंचायत भवन 2000000 रुपए में निर्माण कार्य नहीं किया जा सकता है, वहीं पंचायत के गणमान्य लोगों का कहना है अधिकारियों के सहमति से दूसरे मद का भी पैसा मिलाकर पंचायत भवन आबादी वाले जगह में बनना चाहिए क्योंकि पंचायत भवन में ग्राम के छोटे बड़े बुजुर्ग जाना होता है।शासन से जो भूमि बताया गया है वह भूमि ग्राम पंचायत पतरापाली से या यूं कहा जाए कि आबादी वाले क्षेत्र से बाहर है, वहां ग्रामीणों को जाने आने में काफी दिक्कतें होगी सड़कों की भी अभाव है, इसी वजह से पंचायत भवन का निर्माण कार्य अभी शुरू नहीं हो सका है, पंचायत का सारा कार्य सामुदायिक भवन पतरापाली में चलाया जा रहा है।
पंचायत सचिव ने बताया की इंजीनियर के द्वारा बताया जा रहा है कि 7 से ₹800000 गड्ढे भर आने में पैसा लग जाएगा तो भवन का निर्माण कैसे किया जा सकता है। पतरापाली पंचायत में जिला एसडीएम, जिला सीओ, एवं अन्य प्रशासनिक अधिकारी भूमि की जांच करने पहुंचे लेकिन निर्णय अभी तक कुछ नहीं निकल पाया।
अधिकारियों के द्वारा गठान के पास ग्राम पंचायत बनाने का भूमि बताया गया लेकिन ग्राम वासियों के द्वारा आबादी वाले क्षेत्र सामुदायिक भवन के पास की भूमि को ही चयनित किए हैं , सरपंच पंच एवं पतरापाली के ग्रामवासी गणमान्य लोगों का अपील है कि हमारा ग्राम पंचायत सामुदायिक भवन के बगल में ही बनना चाहिए जिले के समस्त जनपद अधिकारियों से ग्राम वासियों ने निवेदन किया है एवं सामुदायिक भवन के बगल की भूमि स्वीकृति प्रदान करें ।

blitz hindi
के साथ जुड़े हर समाचार सबसे पहले और सटीक पाने के लिए | विज्ञापन के लिए संपर्क करे
अविनाश चंद्र -8964006304 / 83195220243/रफीक अंसारी पटना कोरिया:-9770277040

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here