5 गांवों से पुनः मतगणना कराए जाने फर्जी मत को निरस्त करने को लेकर एसडीएम के यहां दायर हुआ वाद
खंड विकास अधिकारी भीटी निर्वाचन अधिकारी भीटी सहायक निर्वाचन अधिकारी भीटी जीते हुए प्रधान के साथ प्रतिवादी बनाए गए

अनुराग विश्वकर्मा की खबर

भीटी अंबेडकरनगर/भीटी तहसील के भीटी विकासखंड में हुये त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव में मतदान और मतगणना में धांधली की शिकायत को लेकर 5 गांवों अढ़नपुर बेला प्रिया में चन्दौका जैतूपुर से आज पुनः मतगणना कराए जाने फर्जी मतदान को निरस्त करने को लेकर उप जिलाधिकारी भीटी की अदालत में पांच मुकदमे दर्ज किए गए उप जिलाधिकारी भीटी भूमिका यादव ने सभी प्रार्थना पत्रों को स्वीकार करते हुए वाद दर्ज कर सभी प्रति वादियों को नोटिस जारी करते हुए सबको 29 मई 2021 को अदालत में तलब किया है।
उल्लेखनीय है कि भीटी विकासखंड के कन्या इंटर कॉलेज में हुई मतगणना मैं बड़े पैमाने पर धांधली किए जाने का आरोप लगाते हुए प्रत्याशियों ने मतगणना में की जा रही धांधली का जमकर विरोध किया था लेकिन भ्रष्टाचार में लिप्त होने के कारण अधिकारियों ने प्रत्याशियों उनके एजेंटों की कोई बात नहीं सुनी जबकि यह सब सीसीटीवी कैमरे के आगे हो रहा था सरकार और निर्वाचन आयोग ने पारदर्शिता बनाए रखने के लिए सभी मतगणना केंद्रों में सीसीटीवी कैमरे लगवाए हुए थे स्ट्रांग रूम में भी सीसीटीवी कैमरे लगे थे लेकिन प्रत्याशियों और उनके एजेंटों का कहना है स्ट्रांग रूम में भी सीसीटीवी कैमरे लगाये गए थे। लेकिन इसके बावजूद तमाम बक्से टूटे हुए थे और मतदान की समाप्ति के बाद एजेंटों द्वारा लगाई गई सील उस पर मौजूद नहीं थी। बैलट बॉक्स की सील तोड़ कर वोट निकाल कर वोट बदले गए थे जिस कारण कई प्रत्याशियों की हार हुई गांव की जनता इस सत्य को पचा नहीं पा रही है इससे नाराज कई प्रत्याशियों ने उस समय आरो विनोद कुमार सिंह खंड विकास अधिकारी भीटी अनुपम सिंह से शिकायत की लेकिन इन अधिकारियों ने पीड़ितों की बात को बिल्कुल नजरअंदाज कर दिया।उस समय उप जिलाधिकारी भीटी भूमिका यादव भी वंही मौजूद थी। लेकिन उनके द्वारा भी पीड़ितों को न्याय दिलाने के पक्ष में एक शब्द भी नहीं कहा गया उल्टे उन्होंने बेईमानी और भ्रष्टाचार में लिप्त अधिकारियों का पक्ष लिया और पुलिस बुलाकर सभी को वहां से खदेड़वाने में प्रमुख भूमिका निभाई। लेकिन इन सबके बीच थानाध्यक्ष भीटी दयाशंकर मित्रा की भूमिका सराहनीय रही जिन्होंने इन अधिकारियों से अढ़नपुर गांव की रि काउंटिंग कराने के लिए दो बार निवेदन किया लेकिन अधिकारियों ने सुरक्षा व्यवस्था में लगे इस वरिष्ठ अधिकारी की बात को भी अनसुना कर दिया और उनसे भी कहा कि कोई रिकाउंटिंग इस गांव की नहीं होगी।लेकिन सभी अधिकारियों ने उनकी बात को अनसुना कर दिया।
और सभी प्रत्याशी और एजेंटों को तत्काल बाहर कर देने का आदेश दिया। सभी एजेंटों और प्रत्याशियों ने कोविड-19 और लॉकडाउन को देखते हुए सरकार के आदेशों के आगे अपना सिर झुका दिया और चुपचाप मतगणना केंद्र से बाहर चले आए। लेकिन बाहर आने के बाद उन्होंने पूरी घटना की जानकारी जिला अधिकारी अंबेडकर नगर और राज्य निर्वाचन आयोग को दी लेकिन कहीं से किसी भी प्रकार की कोई मदद नहीं मिली जिलाधिकारी के यहां से बताया गया कि मतगणना समाप्त होने के बाद आप लोग मतगणना के लिए उपजिलाधिकारी की अदालत में वाद प्रस्तुत करिए वहीं से दोबारा मतगणना हो सकती है जबकि प्रदेश के अन्य जिलों गोरखपुर में देखा जाए तो प्रमाण पत्र देने के बाद जब वहां जनता हिंसा पर उतारू हो गई तो वहां प्रशासन बैकफुट पर आया और फिर मतगणना कराई गई और हारे हुए प्रत्याशी विजई हुए। यदि इसी तरह से अंबेडकर नगर जिले में जिलाधिकारी ने बिना दंगा फसाद किये प्रयास किया होता तो शायद यहां का भी परिणाम कुछ और होता। पांच ग्राम पंचायतों से आज उपजिलाधिकारी के अदालत में जीते हुए प्रधान निर्वाचन अधिकारी भीटी विनोद कुमार सिंह खंड विकास अधिकारी भी की अनुपम सिंह को प्रतिवादी बनाते हुए पुनः मतगणना कराए जाने का वाद दायर किया गया है। ये गांव अढ़नपुर बेला चंदौका परियायें जैतूपुर है इसके अलावा खजूरी और सेहरा जलालपुर से भी मुकदमा दायर किए जाने की पूरी तैयारी हो चुकी है। गांव के प्रत्याशियों ने बताया है इस पूरे मामले में खंड विकास अधिकारी की भूमिका संदेह के घेरे में है उनके द्वारा मतगणना की समस्त सामग्री प्रभावित किए जाने की संभावना है इन सभी प्रत्याशियों ने जिलाधिकारी से मांग की है कि मतगणना से संबंधित समस्त सामग्रियों को सुरक्षित कराने का आदेश अपने मातहत अधिकारियों कर्मचारियों को दें और साथ-साथ सीसीटीवी कैमरे में हुई रिकॉर्डिंग को सार्वजनिक कराएं जिससे जनता राज्य निर्वाचन आयोग और उत्तर प्रदेश सरकार के द्वारा जो पारदर्शिता अपनाने के लिए सीसीटीवी कैमरे लगाए गए हैं उसमें होने वाली कार्यवाही को देख सके जिससे जनता का विश्वास शासन और राज्य निर्वाचन आयोग के कार्यों पर बना रह सके।
सब रन बनाम माधुरी अढ़नपुर
राजेश बनाम प्रदीप कुमार आदि बेला
अंजू गुप्ता बनाम रीता परियायें
विजय कुमार दुबे बनाम संतोष दुबे आदि चन्दौका
रिंकल सिंह बनाम राधेश्याम दूबे आदि जैतूपुर शामिल है ।यह मुकदमा ज्ञान प्रकाश शर्मा एडवोकेट के द्वारा उप जिलाधिकारी भीटी की अदालत में दाखिल किया गया है उप जिलाधिकारी ने बाद दर्ज कर सभी पक्षों को नोटिस जारी कर 29 मई को सब को अदालत में उपस्थित होने के लिए कहा है।

blitz hindiके साथ जुड़े हर समाचार सबसे पहले और सटीक पाने के लिए | विज्ञापन के लिए संपर्क करेअविनाश चंद्र -8964006304 / 83195220243/रफीक अंसारी पटना कोरिया:-9770277040

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here