जशपुर -साल का पेड़ बन रहा कोरोना महामारी में रोजगार का जरिया

जशपुर/देश में महामारी का दौर चल रहा रहा है ऐसे में जशपुर जिला में पंचायतों में मनरेगा के काम के साथ साथ साल का पेड़ दे रहा है लोगों को रोजगार ।
जिसे संस्कृत में अग्नि वल्लभा के नाम से जाना जाता है।
साल का पेड़ जिसका वैज्ञानिक नाम सोर्या रोबास्टा गिरटन है , आयुर्वेदिक गुणों से भरा हुआ है ।इसके पत्तों से ग्रामवासी दोना पत्तल बना रहे है ।इसकी कोमल टहनियां दातुन के रूप में ग्रामवासी बेच रहे है , इस वृक्ष से निकला हुआ रेग्जीन कुछ अम्लीय होता है जिसे ग्रामवासी लासा को धूप के रूप में बेच रहे है । आज कल इसके बीज का मौसम चल रहा है । इसके बीज को अनेक जगहों को भोजन के रूप में भी उपयोग किया जाता है। तेज हवा के कारण बीज जमीन पर गिर पड़े है ।महुआ की तरह साल के बीज बिनने में आजकल ग्रामवासी व्यस्त है ।जिससे कई प्रकार की दवाइयां बनती है बीज में तेल व वसा पाया जाता है ।जिसे साल बटर के नाम से भी जाना जाता है।जो उनके रोजगार का जरिया बन रहा है ।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here