* केल्हारी: जननी सुरक्षा योजना (जेएसवाई ) के तहत सरकारी अस्पतालों में डिलीवरी को प्रोत्साहित करने के लिए सरकार हर गर्भवती महिला को आर्थिक सहायता देती है,जिसके तहत ग्रामीण इलाके की गर्भवती महिलाओं को 1,400 रुपये और शहरी क्षेत्र की महिलाओं एक हजार रुपये दिए जाते हैं।लेकिन प्राथमिक स्वास्थय केन्द्र केल्हारी का कार्य इसके विपरीत है।जेएसवाई में मदद की यह रकम जच्चा-बच्चा को पर्याप्त पोषण उपलब्ध कराने के हिसाब से दी जाती है।लेकिन प्राथमिक स्वास्थय केन्द्र केल्हारी का विडम्बना है कि,यहां के कर्मचारियों के लापरवाही के कारण जच्चा-बच्चा के पर्याप्त पोषण के लिये भी तीन तीन महिनें भटकने पड रहे हैं।तो वहीं अगर तीन तीन माह तक उक्त सहायता राशि के लिये ग्रामीण अंचल के लोग 50 से 60 किलोमीटर दूरी तय कर विकासखण्ड स्तरीय मनेन्द्रगढ में इसकी जानकारी दे कारण पूंछे तो प्राथमिक स्वास्थय केन्द्र केल्हारी के एकाउन्टेंट वर्षा द्वारा फोन कर डांट लगाई जाती है।तथा उनके द्वारा इतनी अवधि बीत जाने के बाद भी यह कही जाती है कि दो दो सिग्नेचरी हैं।जिसके कारण इतना विलम्ब हुआ है।अचरज का विषय यह है कि क्या प्राथमिक स्वास्थय केन्द्र केल्हारी में दो तीन माह तक उक्त सिग्नेचर करने वाले तथाकथित अधिकारी कर्मचारी इतने लम्बे दिनों तक कैसे कार्यालय से नदारद रह सकते हैं।तो वहीं दूसरा कारण यह भी बताया कि बैंकिंग त्रुटि से विलम्ब हो जाता है।अतएव दोबारा ट्रांसफर करना पडेगा,और अब एक सप्ताह बाद भुगतान कर दिया जायेगा,सवाल यह है कई प्रकार के बहानाबाजी बनाने वाले ऐसे कर्मचारी का क्या भरोसा की एक सप्ताह बाद उक्त सहायता राशि मिल ही जायेगी?और असल में भुगतान विलम्ब का वास्तविक कारण क्या है?लापरवाही पूर्वक कृत्य अथवा तथाकथित सिग्नेचरी का दो तीन माह तक कार्यालय से नदारद रहना? गौरतलब हो कि प्रसव के तत्काल बाद ही इस सहायता राशि को प्रदान करना है।जबकि तीन माह बीत चुका है,भुगतान अप्राप्त है।लेकिन प्राथमिक स्वास्थय केन्द्र केल्हारी के एकाउन्टेंट वर्षा का कहना है कि अभी एक सप्ताह और लगेंगे।जिससे स्पष्ट है कि अभी तक इनके द्वारा कोई प्रोसेस नही की गई है। .

blitz hindiके साथ जुड़े हर समाचार सबसे पहले और सटीक पाने के लिए | विज्ञापन के लिए संपर्क करेअविनाश चंद्र -8964006304 / 83195220243/रफीक अंसारी पटना कोरिया:-9770277040

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here