अविनाश चंद्र की खबर

केल्हारी : आदिवासी वनांचल बाहुल्य क्षेत्र केल्हारी में सुविधाओं का बदहाल स्थिति का अंदाजा शौचालय,पेयजल,बैठक व्यवस्था विहीन होने से लगाया जा सकता है।क्षेत्र का 50 किलोमीटर अंतराल का एकमात्र छग राज्य ग्रामीण बैंक केल्हारी होने के वजह से कोरोनाकाल में भी बैंक में भीड देखी जा सकती है।हलांकि शाखा प्रबंधक का कुशल नेतृत्व का ही असर है कि,भीड भाड को संभाल दैनिक कार्य किया जाता है।लेकिन नव पदस्थ कैशियर श्री संतोष का व्यवहार ग्रामीण जनों से अभद्रतापूर्ण एवं अपमानजनक रहता है।ग्रामीण अंचल से नव पदस्थ कैशियर का इस कदर नफरत है कि,लंच समय से पहले लेने-देन बंद कर दिया जाता है।अगर ग्रामीण उनसे लंच का समयावधि भी जानना चाहे तो कैशियर श्री संतोष के द्वारा भोले भाले ग्रामीणों को डांटकर भगा दिया जाता है।
विडम्बना देखिये कि 50 किलोमीटर के अंतराल में लगभग 20 ग्राम पंचायतों के ग्रामीण को बैंक परिषर में न पेयजल व्यवस्था न ही शौचालय का व्यवस्था है।अगर यहां व्यवस्था कि बात की जाये तो भीड भाड के बीच में नव पदस्थ कैशियर का डांट फटकार जरूर मिलता है। बैंक परिषर के ठीक सामने आवारा मवेशियों का जमावडा और गड्ढों में पानी का भराव,दुर्गन्ध का बोलबाला अवश्य मुफ्त सेवा के रूप में ग्रामीणों को मिलता है।
हद तो तब हो गई जब गुरूवार दोपहर ग्रामीणों ने दोपहर 1.40 बजे लेन-देन करने गये जहां कैशियर श्री संतोष द्वारा डांट फटकार लगाई गई,जबकि लंच समय में भी 20 मिनट शेष रहा।

blitz hindi
के साथ जुड़े हर समाचार सबसे पहले और सटीक पाने के लिए | विज्ञापन के लिए संपर्क करे
अविनाश चंद्र -8964006304 / 83195220243/रफीक अंसारी पटना

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here