अविनाश चंद्र की खबर

साफ सफाई और पानी का अभाव बना रहता है शौचालयों में

कोरिया/स्वच्छ भारत की खुल रही पोल सरकार  की महत्व कांची योजनाओ की उड़  रही धज्जियां जी हा हम  बात कर रहे है कोरिया जिले की जहा एक ओर  लाखो करोडों रुपय स्वच्छता के नाम पर ढाकार रहे है अधिकारी,देखने और सोचने वाली  बात यह है की स्वच्छ भारत मिसन  के तहेत  गली मोहलो नगरी निकाय क्षेत्रों लाखो करोडो रूपये  सरकार खर्च कर रही है लेकिन कोरिया जिले मै साफ तोर पर देखने को मिल रही है की साफ सफाई केवल कागज पर ही सिमट कर रहे गया है तस्वीर मैं आप कोरिया जिले  के जिला कलेक्टेड का है जहां पर कचरा बिखरा पड़ा हुआ है और यहां जिम्मेदार अधिकारी कुंभकरण की नींद सो रहे हैं हद तो तब हो गई जब जिला कलेक्ट्रेट के शौचालय की तस्वीर सामने आई साफ तौर पर देखा जा सकता है कि शौचालय के अंदर गुटका पान मसाले के निशान यहां वहां देखने को मिल रहे हैं वही बात करें बेसिन की जिसमें लोग लघुशंका के बाद या दीर्घ शंका  के बाद हाथ को शौच करें कलेक्ट्रेट में आम जनमानस के लिए शौचालय बनाया गया है किंतु शौचालय में ना ही पानी है

ना हाथ धोने वाले बेसिन के नलों में पानी आ रहा है गंदगी ऐसी है कि चारों तरफ बदबू एवं शौचालय के गेट टूटे-फूटे शौच करने वाले रूम में ना ही पानी है नहीं ढंग की कोई व्यवस्था तस्वीर से साफ पता चल रहा है कि जिम्मेदार अधिकारी अपने ही परिसर का ख्याल स्वच्छता के रूप में नहीं रख सकते तो जिले का क्या रखेंगे आज स्वच्छ भारत मिशन के तहत लाखों करोड़ों रुपए खर्च किए जा रहे हैं लेकिन वे योजनाएं केवल कागज पर ही सिमट कर रह गया है जमीनी हालात बिलख बिलख कर कह रही है कि हमें न्याय चाहिए हमें विकास चाहिए लेकिन जिम्मेदार अधिकारी कुंभकरण की निद्रा में सोए हुए हैं कोरिया के नींव रखने वाले भी सोच रहे होंगे कि ऐसी स्थिति जब मुख्यालय कि है तो दूर अंचल ग्रामीण क्षेत्रों का मंजर कैसा होगा आज जहां एक और घर-घर शौचालय की योजना चलाई गई वहीं ग्रामीण क्षेत्र में जाकर के अगर सुध लिया जाए तो तमाम शौचालय धराशाई हो गए हैं कुछ जगहों पर तो इसका इस्तेमाल ही नहीं हो रहा है शासन के पैसों का खूब बंदरबांट किया यह साफ तौर पर जिला मुख्यालय के कारनामे से पता चल गया क्योंकि जिला कलेक्ट्रेट में पहुंचने वाले लोग एवं यहां काम करने वाले कर्मचारी अधिकारी यह देखते जरूर होंगे कि कलेक्टर परिसर के बाहर कागजों का ढेर पॉलिथीन का ढेर बिखरा पड़ा हुआ है जिस की सुध लेने के लिए कोई नहीं है आपको बता दें कि सरकार ने जगह जगह कचरा को डंप करने के लिए कंटेनर बनाया है डस्टबिन रखा है ताकि बेस्ट चीजों को उस डस्टबिन में डाल कर के उसे नष्ट कर दिया जाए किंतु कोरिया जिला के जिला मुख्यालय में ऐसा नहीं हो रहा है कचरे को कलेक्ट्रेट परिसर के पीछे यूं ही बिखरा दिया गया है अब देखना यह होगा कि जिम्मेदार अधिकारियों की नींद कब खुलती है और व्यवस्थाएं को कब सुधारा जाता है यह तो आने वाला समय ही बताएगा वर्तमान स्थिति में गंदगी का आलम चारों ओर

blitz hindi
के साथ जुड़े हर समाचार सबसे पहले और सटीक पाने के लिए | विज्ञापन के लिए संपर्क करे
अविनाश चंद्र -8964006304 / 83195220243/रफीक अंसारी पटना कोरिया:-9770277040

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here